कोरोना वायरस से चीन में 70 हज़ार लोगों को मिला जीवनदान,भारत समेत विश्व में भी कोरोना के ये है पॉजिटिव इफेक्ट

0
179
कोरोना वायरस ने पूरे विश्व में ऐसा कहर मचाया है की जिससे अब तक लाखों लोग पीड़ित और कई हजार अपनी जान गवा बैठे हैं । लेकिन इसके बावजूद जहां से यह वायरस आया ‘चाइना’ वहां पर इसके कारण करीब 70000 लोगों की जान बची है
दरअसल यह दावा स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के अर्थ सिस्टम साइंस के प्रोफेसर मार्शल बुर्के ने किया है उन्होंने  यह बात G-feed/ब्लॉग में कही है जिसे 7 मशहूर वैज्ञानिक चलाते है जो ग्लोबल फ़ूड एन्विरोमेंट एंड इकोनॉमिक्स डायनामिक पर काम करते है
उन्होंने बताया  की चीन में 2 महीने के लॉक डाउन के चलते पॉल्युश का लेवल काफी कम हुआ है। जिससे 4 हज़ार बच्चे 5 साल से कम उम्र  के और 70 हज़ार एडल्ट की जान बच गई है । प्रोफेसर बुर्के ने यह आकड़े यूएस गवर्मेन्ट सेंसर्स की उस रिपोर्ट पर दिये है जिसमे उसने चीन के 4 शहरो में PM2.5 के स्तर को मापा था । और बताया था कि लॉक डाउन के समय चीन में पॉल्युश का स्तर कम हो गया था।
सेन्टर फ़ॉर रिसर्च ऑन एनर्जी एंड क्लीन एयर के एनालिस्ट Lauri Myllyvirta के मुताबकि चीन में लोक डाउन के पहले महीने में कार्बन इमेशन(उत्सर्जन) में 25 % की गिरावट दर्ज की गई है जो अधिकतर वाहनों से उत्पन्न होती है। तो वही फोर्ब्स में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार फ्रांस में 48 हज़ार लोग एयर पॉल्युश से मरते है जबकि अमेरिका में करीब इसकी संख्या 1 मिलियन है ।
हालहि में अमेरिका की नासा एजेंसी की सैटेलाइट ने यह पता लगाया है कि अमेरिका में लॉक डाउन के चलते एयर पॉल्युशन कम हुआ है । बीबीसी से न्यूयॉर्क के रिसर्चर ने दावा किया है कि उनके देश में करीब 50 परसेंट एयर पोलूशन कम हुआ है.
तो बात की जाए भारत की जहां पर अभी फिलहाल पूरे देश में लॉक डाउन है वहां पर पॉल्यूशन की क्या स्थिति है।
सोमवार को नई दिल्ली का एयर क्वालिटी इंडेक्स मापा गया तो उसका अकड़ा 93 था जो पिछले साल के मार्च में 161 पर था । मुंबई में भी पिछले साल मार्च में एयर क्वालिटी इंडेक्स 153 था जो सोमवार को 91 पर रहा। बता दे कि  50 से कम एयर क्वालिटी इंडेक्स को सुरक्षित माना जाता है.
इन दो आकड़ो से आप यह साफ जाहिर होता हैं कि कोरोना वायरस खतरनाक तो है लेकिन उससे पर्यावरण को भी काफी फायदा पहुंच रहा है। क्योंकि कोरोना वायरस के चलते सरकार ने देश में लॉक डाउन का आदेश दिया है जिससे गाड़ियां , फैक्ट्रियां नही चल रही है, और अगर गाड़ीया फैक्ट्री नहीं चल रही है तो जाहिर है पॉल्युश भी नही होगा। अब सरकार की और से लॉक डाउन को और सख्त कर दिया है . ऐसे में लाजमी है आने वाले दिनों में पॉल्युशन का ग्राफ और नीचे आएगा।
वैसे कोरोना एक जानलेवा बीमारी है, सोशल डिस्टेंस ही इसका बचाव है तो ऐसे में आप इसका घर रहकर पालन करे और साथ ही पर्यावरण को स्वच्छ बनाने में भी अपना सहयोग करे। अगर आप बेवजह सड़क से बाहर निकलेंगे और गाड़ी में घूमेंगे तो इससे आपको बीमारी भी होगी और पॉल्युशन भी होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here