डिग्री का भूत अब निशंक के पीछे 

0
36
कभी मोदी तो कभी स्मृति ईरानी यह डिग्री का जो भूत है भाजपाइयों को किसी न किसी तरीके से परेशान करता रहता है अब सरकार नई आई है लगा कि शायद इससे अब  सरकार को छुटकारा पूरी तरह से मिल गया  है। लेकिन यह डिग्री का भूत बढ़ा अड़ियल निकला मानता ही नहीं , अब इसकी जद में देश के नए एचआरडी मिनिस्टर भी आ गए हैं। मोदी सरकार 2.0 के नए मानव संसाधन विकास मंत्री बने हरिद्वार सांसद उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री  डॉ रमेश पोखरियाल निशंक पर फर्जी डिग्री का काफी गंभीर आरोप लगा हुआ है उत्तराखंड के एक जाने-माने आरटीआई एक्टिविस्ट का कहना है कि जिस श्रीलंका के विश्वविद्यालय से रमेश पोखरियाल निशंक ने डॉक्टर की उपाधि ली उस विश्वविद्यालय का नामो निशान श्रीलंका में भी नहीं है। तो मतलब देश के नए मानव संसाधन मंत्री की डिग्री फर्जी निकली। पताया जा रहा है कि 90 के दशक में डॉ निशंक ने यह डिग्री हासिल की थी।  आरटीआई में यह भी खुलासा हुआ है कि उनकी जो जन्म तिथि है उसमें भी गड़बड़झाला है दरअसल उन्होंने अपने पासपोर्ट में अपनी जन्म की तिथि 15 जुलाई 1959 बताई है जबकि उनकी देहरादून में फ़ाइल हुई सीवी में 15 अगस्त बताया गया है ।
इससे पहले 2014 में जब स्मृति ईरानी एचआरडी मिनिस्टर बनी थी तब उनकी डिग्री पर भी सवाल उठा था। क्योंकि उनकी 2004 से लेकर 2014 तक शैक्षिक योग्यता को लेकर स्मृति ईरानी ने अलग जानकारी दी थी जबकि 2004 में उन्होंने अपने आप को दिल्ली यूनिवर्सिटी से 8 डिग्री में स्थानक बताया था। 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने अपने आप को 1994 में दिल्ली यूनिवर्सिटी से कॉमर्स पार्ट-1 में पोस्ट ग्रेजुएट  होने की बात लिखी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here