नही मिली बस तो 3 महीने का बच्चा लिए करीब 200 किलोमीटर पैदल चली महिला

0
144

पूरे देश मे लॉकडाउन के चलते परिवहन सेवा अचनाक बंद कर दी गई जिसके कारण प्रदेशवासियों को उत्तराखंड आने का कोई संसाधन नही मिल पाया। जिसके बाद कई लोगों ने बस अड्डो में में ही डेरा डाल दिया।

तो कुछ पैदल निकल पड़े कुछ एक ऐसा मसला 1 महिला समेत 8 नेपाली लोगों का है जो दिल्ली से पैदल चलकर उत्तराखंड से लगे रामपुर बॉर्डर पहुंच गए। इनमें शामिल एक महिला ने तीन माह का बच्चा गोद में लिया हुआ था।

सूचना मिलने के बाद पुलिस की और से सभी की स्वास्थ्य की जांच कराई और वाहन की व्यवस्था कर उन्हें बनबसा के लिए रवाना कर दिया।

पुलिस की मदद का आभार जताते हुए नेपाली लोग भावुक हो गए। और पुलिस को बताया कि लॉकडाउन के चलते बस और ट्रेन का संचालन बंद हो गया था. जिसके कारण वह दिल्ली में ही फस गए । उन्होंने बताया कि उन्हें नेपाल जाना था । लेकिन बसों के नही चलते उन्होंने पैदल जाने का फैसला लिया । 22 मार्च को पैदल दिल्ली से चलना शुरू किया । रास्ते मे लोगों ने उन्हें खाना खिलाया और फिर पैदल चलते हुए वे यहां तक पहुंचे है। इसके बाद एसएसपी बरिंदर जीत सिंह ने चंपावत के एसपी से बात की।

इसके बाद एक वाहन का इंतजाम कर सभी लोगों के लिये खाने की व्यवस्था की गई उसके बाद बनबसा के लिए रवाना कर दिया गया । इसके साथ ही सभी 8 लोगों को सुरक्षा के लिए उन्हें मास्क दिए गए। । इसके अलावा दो युवक युवक नैनीताल से पैदल चलकर अल्मोड़ा पहुंचे। तो वही देहरादून से भी कई लोग हरिद्वार पैदल ही गए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here