अब उत्तराखंड भी 31 मार्च तक लॉक डाउन,बैंक समेत ये सेवाएं शामिल नहीं

0
221
महाराष्ट्र के 4 शहर लॉक डाउन , राजस्थान लॉक डाउन , पंजाब लॉक डाउन….यह सिलसिला चलते हुए  उत्तराखंड भी लॉक डाउन हो गया है उत्तराखंड सरकार ने एक अहम फैसला लेते हुए उत्तराखंड को 31 मार्च तक के लिए लॉक डाउन कर दिया है। मिली जानकारी के अनुसार  उत्तराखंड में  कोरोना के बढ़ते मामले और आज जनता कर्फ्यू के सफल होने के चलते या फैसला सरकार की तरफ से लिया गया है । बता दे कि बैंक और जरूरी सेवाएं रहेंगी खुली।
इससे पहले भी सरकार ने कोरोना वायरस के चलते स्कूल परीक्षाएं और  सभी कार्यालयों की छुट्टी की घोषणा की थी। इसके बाद एफ़आर आई में 2 लोगों पर कोरोना की पुष्टि होने पर उसे लॉक डाउन कर दिया था और उसके बाद सरकार ने एक के बाद एक कई संस्थाओं  को 31 मार्च तक के लिए बंद करने का आदेश दिया था।
कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर पूरे उत्तराखंड को लॉक डाउन कर दिया गया है। उत्तराखंड में 31 मार्च तक सार्वजनिक परिवहन नहीं चलेंगे। इसके अलावा बाजार भी इस दौरान बन्द रहेंगे। उत्तराखंड की बड़ी आबादी रोजगार की तलाश में दिल्ली, मुंबई सहित बड़े शहरों में निवास करते हैं। इन शहरों में कामकाज बन्द होने से लोग वापस पहाड़ का रुख करने लगे। ये सरकार के लिए चिंता की बात है।
पीएमओ ने राज्य के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह और आला अधिकारियों के साथ बैठक कर देहरादून शहर के लॉक डाउन करने के आदेश जारी किए थे । लेकिन राज्य के अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री ने गहन विचार-विमर्श के बाद पूरे प्रदेश को ही लॉक डाउन करने का आदेश जारी कर दिया।
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि जनता की सुरक्षा के लिए यह जरूरी है कि आवाजाही प्रतिबंधित कर दी जाए। ताकि लोगों का आपस में संपर्क ना हो और संक्रमण फैलने से रोका जा सके । मुख्यमंत्री ने इसके बाद प्रदेश की जनता को आश्वस्त भी किया है कि खाने-पीने की वस्तुओं की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस दौरान श्रमिकों को भी राहत दी है। राज्य में रजिस्टर्ड सवा तीन लाख श्रमिकों को एक हजार रुपए उनके खातों में डालने जा रही है।
राज्य में अभी कोराना पीड़ितों की संख्या 3 है। राज्य सरकार की कोशिश है कि आवाजाही और भीड़भाड़ को रोककर कोराना को मात दी जा सकती है।
क्या होता है लॉकडाउन?
लॉकडाउन एक इमर्जेंसी व्यवस्था होती है। अगर किसी क्षेत्र में लॉकडाउन हो जाता है तो उस क्षेत्र के लोगों को घरों से निकलने की अनुमति नहीं होती है। जीवन के लिए आवश्यक चीजों के लिए ही बाहर निकलने की अनुमति होती है। अगर किसी को दवा या अनाज की जरूरत है तो बाहर जा सकता है या फिर अस्पताल और बैंक के काम के लिए अनुमति मिल सकती है। छोटे बच्चों और बुजुर्गों की देखभाल के काम से भी बाहर निकलने की अनुमति मिल सती है।
क्यों करते हैं लॉकडाउन?
किसी तरह के खतरे से इंसान और किसी इलाके को बचाने के लिए लॉकडाउन किया जाता है। जैसे कोरोना के संक्रमण को लेकर कई देशों में किया गया है। कोरोनावायरस का संक्रमण एक-दूसरे इंसान में न हो इसके लिए जरूरी है कि लोग घरों से बाहर कम निकले। बाहर निकलने की स्थिति में संक्रमण का खतरा बढ़ जाएगा। इसलिए कुछ देशों में लॉकडाउन जैसी स्थिति हो गई है।
किन देशों में है लॉकडाउन?
चीन, डेनमार्क, अल सलवाडोर, फ्रांस, आयरलैंड, इटली, न्यूजीलैंड, पोलैंड और स्पेन में लॉकडाउन जैसी स्थिति है। चूंकि चीन में ही सबसे पहले कोरोनावायरस संक्रमण का मामला सामने आया था, इसलिए सबसे पहले वहां लॉकडाउन किया गया। इटली में मामला गंभीर होने के बाद वहां के प्रधानमंत्री ने पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया। उसके बाद स्पेन और फ्रांस ने भी कोरोना संक्रमण रोकने के लिए यही कदम उठाया।
कब-कब हुआ लॉकडाउन?
अमेरिका में 9/11 के आतंकी हमले के बाद वहां तीन दिन का लॉकडाउन किया गया था। दिसंबर 2005 में न्यू साउथ वेल्स पुलिस फोर्स ने दंगा रोकने के लिए लॉकडाउन किया था। * 19 अप्रैल, 2013 को बोस्टन शहर को आतंकियों की खोज के लिए लॉकडाउन कर दिया गया था। नवंबर 2015 में पैरिस हमले के बाद संदिग्धों को पकड़ने के लिए साल 2015 में ब्रुसेल्स मे हुआ।
जिस तरह से उत्तराखंड में कोरोनो के मामले बढ़ रहे थे उसके मद्देनजर सरकार ने यह फैसला लिया है … इस फैसले से ऐसा लगता है इसको लेकर सरकार पहले से  लॉक डाउन का मन बना लिया था जिस पर आज मुहर लगा दी गई।
उत्तराखंड के अलावा ऐसे कई राज्य भी हैं जिन्होंने लॉक डाउन का आदेश लागू कर दिया है इसमें से सबसे पहला नंबर महाराष्ट्र का है जहां पर  एक दिन पहले ही 4 बड़े शहरो को लॉक डाउन  का आदेश  दिया गया था। उसके बाद पंजाब राजस्थान ने भी 31 मार्च तक लॉक डाउन का आदेश जारी कर दिया। फिर  रेलवे ने भी अपनी सारी पैसेंजर ट्रेन की सेवाएं 31 मार्च तक के लिये  रोक दी।
तो वही यूपी की बात करें तो यूपी में जब से कनिका कपूर का मामला आया है तब से लखनऊ को तो प बंद कर दिया गया है साथ ही और भी जो शहर हैं उनको भी बंद करने के लिये  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संकेत दे दिए हैं।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here