अनशन पर बैठे एक और गंगा रक्षक को जबरन उठाकर ऋषिकेश एम्स में करा दिया गया भर्ती

0
27
गंगा रक्षा के लिए बीते 37 दिनों से अनशन कर रहे मातृ सदन के ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद को जबरन उठाकर ऋषिकेश एम्स में भर्ती करा दिया गया लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गई। इस को देखकर एक बार फिर स्वामी सानंद के साथ हुई जोर जबरदस्ती की घटना ताज़ा हो गई
कुछ दिन पहले गंगा के रक्षा के लिए 114 दिन तक अनशन पर बैठे स्वामी सानंद ने प्राण त्याग दिए थे। उन्हें भी जबरन उठाकर ऐसी ही एम्स में भर्ती कराया गया था। आज एक बार फिर  एक और गंगा रक्षक के साथ हुआ .
आत्मबोधानंद गंगा रक्षा के लिए 24 अक्टूबर से अनशन पर बैठे थे आज उन्हें 2:30 बजे एसडीएम मनीष कुमार सिंह सीओ स्वप्न  किशोर और तहसीलदार सुनैना राणा पुलिस बल के साथ मातृ सदन पहुँचे, तो वहां पहले से मौजूद मातृ सदन के प्रमुख स्वामी शिवानंद आग बबूला हो गए। उसके बाद एसडीएम ने स्वामी शिवानंद से ब्रम्हचारी आत्मबोधानंद को ले जाने के लिए अनुमति मांगी लेकिन उन्होंने नहीं दी जिसके बाद वह उन्हें जबरन उठाकर एंबुलेंस में ले गए।
एक और गंगा रक्षक को जबरन उठाने पर एसडीएम मनीष कुमार ने सफाई देते हुए कहा कि वह काफी दिनों से अनशन पर थे स्वास्थ्य जांच भी नहीं करा रहे थे ऐसे में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए क्या करना जरूरी था।
तो वहीं मातृ सदन की और से बयान आया की ब्रह्मचारी आत्मबोधानन्द एम्स में सुरक्षित नहीं है इसके साथ ही परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद ने हरिद्वार के डीएम दीपक रावत एसडीएम मनीष कुमार और तहसीलदार सुनील राणा को तत्काल प्रभाव से मुक्त कर उनकी संपत्ति की जांच करने की भी मांग की है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here