हरिद्वार में धारा 144 लागू, दिल्ली-देहरादून हाइवे बंद

0
299
दून में लॉक डाउन के चलते  लोक सेवक के आदेश का उल्लंघन करने के आरोप में पुलिस ने  पहले दिन बड़ी कार्रवाई की  । पुलिस ने धारा 188 के तहत 112 मुकदमे दर्ज किए गये साथ ही 23 लोगो का शांति भंग करने पर ग्रिफ्तार किया गया है और  53 वाहनों को  भी सीज किया है। जिसे और सख्ती से  बढ़या जा सकता है।
22 मार्च को जनता कर्फ्यू के बाद सोमवार सुबह सड़कों पर काफी लोगो के हुजूम को संभालने में काफी जद्दोजहद करना पड़ा। पहले तो लोगो को समझाने की कोशिश की गई , लेकिन जब लोग नहीं माने तो पुलिस सख्ती पर उतर गई। जिसके बाद पुलिस अला ऑफिसर को भी सड़को पर उतरना पड़ा। डीआईजी अरुण मोहन जोशी जिलाधिकारी आशीष श्रीवास्तव के साथ सड़को पर उतर गए। एसपी सिटी स्वेता चौबे ने घंटाघर पर मोर्चा संभाला। एसपी क्राइम लोकजीत सिंह, सीओ अनुज कुमार, पल्लवी त्यागी, विवेक कुमार आदि ने पुलिस टीम को लेकर कार्रवाई शरू की, जो शाम तक जारी रही।
कोराना वायरस के मद्देनजर  प्रदेश भर में लागू किए गए लॉकडाउन का पहले दिन  बेअसर रहा जिकसे  चलते प्रशासन ने हरिद्वार जिले में धारा 144 लागू कर दी है। इस संबंध में हरिद्वार शहरी क्षेत्र के लिए नगर मजिस्ट्रेट जगदीश लाल ने और रुड़की व आसपास के क्षेत्र के लिए ज्वाइंट मजिस्ट्रेट रुड़की ने आदेश जारी किए। सभी अधिकारियों को इन आदेशों का सख्ती से पालन करने के निर्देश दिए गए हैं।
आदेशों का पालन न करने पर संबंधित लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का प्रावधान है ।  प्रशासन को पूरा विश्वास था कि  सोमवार को भी लोगों का रविवार के जनता कर्फ्यू की तरह समर्थन मिलेगा, लेकिन सुबह से हालात कुछ अलग ही  दिखाई दिए। सुबह से ही अधिकतर दुकानें खुल गई थी और पूरा जिला मानो सामान्य दिनों की तरह सड़कों पर दौड़ रहा था।
इस स्थिति को देखते हुए प्रशासन ने धारा 144 लागू करने के आदेश जारी कर दिए गए। जिसके अंतर्गत कोई भी सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजन पर पाबंदी होगी। साथ ही चार से ज्यादा लोग कही भी इकट्ठा नहीं रह सकते।  जिलाधिकारी और एसएसपी ने इन आदेशों का जिले में सख्ती से पालन कराने के निर्देश दिए हैं। कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए प्रशासन का यह कदम अति आवश्यक माना जा रहा है।
मुंबई से लौट रहे 254 लोगों को भगवानपुर पुलिस ने बॉर्डर पर ही रोक लिया। सभी को सीएचसी ले जाकर थर्मल स्क्रीनिंग कराई गई और कोरोना जैसा कोई संदिग्ध लक्षण नहीं मिलने पर उन्हें रोडवेज की बसों से हरिद्वार भेज दिया गया। स्वास्थ्य विभाग ने सभी लोगों को 14 दिन तक घरोंमें क्वारंटीन रहने के निर्देश दिए हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here